Delhi Cantt Board
दिल्ली छावनी परिषद

DELHI CANTONMENT BOARD

रक्षा मंत्रालय
swachh bharat

शहर का परिचय

KML-LogoFullscreen-LogoGeoRSS-Logo
शहर का नक्शा

loading map – please wait…

: 28.598252, 77.123428
marker icon
icon-car.png Fullscreen-Logo KML-Logo

 

दिल्ली छावनी, जनकपुरी के समीप, नई दिल्ली के दक्षिण-पश्चिम जिला में स्थित है। दिल्ली अंतराराष्ट्रीय हवाई अड्डा छावनी से पाँच किलोमीटर की दूरी पर स्थित है एवं दिल्ली छावनी का अपना रेलवे स्टेशन है। जिसका नाम दिल्ली छावनी रेलवे स्टेशन है। दिल्ली छावनी में थल सेना का दिल्ली एरिया का मुख्यालय स्थित है। दिल्ली छावनी परिषद को आमतौर पर दिल्ली कैंट के रूप में सन्दंर्भीत किया जाता है, जो दिल्ली के राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र की  एक स्थानी शहरी निकाय है, जिसका क्षेत्रफल 10452 एकड़ है।वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार दिल्ली छावनी की जनसख्ंया 1,10351 है। दिल्ली छावनी का प्रबंधन दिल्ली छावनी परिषद द्वारा किया जाता है जो रक्षा मंत्रालय के अधीन हैं। दिल्ली छावनी परिषद् को 2006 के छावनी अधिनियम द्वारा नियंत्रित किया गया है और इसका प्रधान कार्यालय सदर बाजार क्षेत्र में स्थित है।

ग्रीष्मकाल का आरंभ अप्रैल माह से प्रारंभ हो जाता है । जिसका औसतन तापमान लगभग 40 सेंटीग्रेड (90 एफ) कभी-कभी गर्म लहरों के कारण कुछ दिन तापमान 45 डिग्री सेंटीग्रेड (114 एफ) तक पहुंच जाता है। दिल्ली में मानसून जून महीनें से प्रारम्ंभ होकर सितम्ंबर माह के मध्य तक समाप्त हो जाता है। जिसमें वर्षा ऋतु में लगभग 79.3 एमएम (31.5 इंच) वर्षा होती है। वर्षा ऋतु में वर्षा वाले दिन औसतन तापमान 29 डिग्री सेंटीग्रेड (85 एफ) तक रहता है तथापि वर्षा ऋतु तापमान में कमी अथवा वृद्धि 25 डिग्री सेंटीग्रेड (78 एफ) से 32 डिग्री सेंटीग्रेड (90 एफ) तक रहता है। सितम्बंर माह के अंतिम में मानसून पीछे हट जाता है तथा उत्तर-मानसून अक्टूबर तक बना रहता है। उस दौरान औसत तापमान में 29 डिग्री से 21 डिग्री तक तापमान की अस्थिरता बनी रहती है।

सर्दी का मौसम नवम्बंर माह के अंतिम अथवा दिसम्बंर माह प्रारंभ हो जाता है एवं सर्दी जनवरी माह में चरम पर पहुंचती है। औसतन तापमान 12 से 13 डिग्री सेंटीग्रेड  तक रहता है तथापि सर्दी आमतौर पर मृदुल रहती है। दिल्ली हिमालय की पहाड़ी से सटा हुआ है जिसका परिणाम सर्द लहरों के कारण तापमान में गिरावट होती है। सर्दी का मौसम माह फरवरी में धीरे-धीरे समाप्त होता है एवं उसके पश्चात् बसंत ऋतु का आगमन होता है।